अतिथि शिक्षकों की होगी भर्ती शासन ने जारी किया आदेश…….क्या नियमित शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में हो सकती है और अधिक विलम्ब……क्या बेरोजगारो के साथ हो रहा……. देखिए ABDS NEWS

0

रायपुर AbdsNews – राज्य में एक बार फिर पूर्व वर्षों की भांति अतिथि शिक्षक की भर्ती होगी। इस हेतु छत्तीसगढ़ राज्य स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव द्वारा दिशा निर्देश जारी किया जा चूका है। राज्य में संभागवार बस्तर 955 पद ,सरगुजा 930 पद,रायपुर 211पद,बिलासपुर 292 पद एवं दुर्ग 128 पद कुल 2516 पदों में होगी भर्ती। उक्त भर्ती प्रक्रिया की सम्पूर्ण जिम्मेदारी शाला प्रबंध एवं विकास समिति एवं जिला शिक्षा अधिकारी के जिम्मे होगी।

उक्त भर्ती प्रक्रिया को स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव द्वारा 30 जुलाई 2019 तक पूर्ण करने कहा गया है। शाला प्रबंध समिति जहाअतिथि शिक्षक की व्यवस्था करेगी वही दूसरी ओर जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा विज्ञापन जारी किया जायेगा।

अंग्रेजी,भौतिक,रसायन,जीवविज्ञान एवं वाणिज्य के पदों में भर्ती होगी। जिलावार पदों का विवरण सम्बंधित जिला शिक्षा अधिकारी निर्धारित तिथि में उपलब्ध कराएँगे। अतिथि शिक्षकों को प्रतिमाह 18000 रु. शाला प्रबंध समिति द्वारा भुगतान किया जायेगा।

नियमित शिक्षक भर्ती प्रक्रिया के बीच में अतिथि शिक्षक की आवश्यकता क्यों – राज्य में जहाँ एक ओर 14580 पदों में व्याख्याता,उच्च वर्ग शिक्षक एवं सहायक शिक्षक की भर्ती प्रक्रिया चल रही है उसी दौरान लगभग 2500 पदों में अतिथि शिक्षक की भर्ती प्रक्रिया प्रारम्भ करना समझ से परे है। वैसे भी वर्तमान भर्ती प्रक्रिया के विरुद्ध कई शिक्षाकर्मी संगठनों द्वारा हाईकोर्ट में याचिका दाखिल किया गया है। जिसकी सुनवाई जुलाई 2019 की अंतिम सप्ताह में निर्धारित है।

बेरोजगार युवाओं में भ्रम की स्थिति – वर्तमान परिस्थिति में आवेदन कर चुके बेरोजगार युवाओं में भ्रम की स्थिति निर्मित हो गयी है। वे लोग सोचने पर मजबूर हो गए है। जब खाली पदों की पूर्ति हेतु नियमित शिक्षक भर्ती प्रक्रिया चल रही है तो अतिथि शिक्षक की आवश्यकता क्यों ? एक प्रकार से बेरोजगार युवाओं में जो खासकर शिक्षक बनने की तैयारी भी प्रारम्भ कर दिए है उन्हें भर्ती प्रक्रिया बाधित होने का डर सताने लगा है।

अतिथि शिक्षकों की भर्ती कई सवालों को जन्म देती है– अतिथि शिक्षकों की भर्ती शासन के मंशा पर सवाल खड़ा करती है ,क्योंकि शासन यदि चाहे तो एक महीने के अंदर नियमित शिक्षकों की भर्ती कर सकती है। यदि अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाती है तो एक या दो महीने के लिए नही हो सकता ,कम से कम 5-6 माह के लिए होगा, इस आधार पर देखा जाय तो इस शिक्षा सत्र के अंत तक ही नियमित शिक्षकों की भर्ती हो सकती है।

अतिथि शिक्षकों की अचानक से भर्ती प्रक्रिया प्रारम्भ करना कही नियमित शिक्षक भर्ती पर स्टे लगने की सम्भावना तो नहीं। यदि स्टे लगती है तो हजारों युवा जो आवेदन कर शिक्षक बनने की तैयारी भी कर रहे है उनका क्या होगा। उपरोक्त सभी बातें आने वाले समय में स्पष्ट होगा। फिरहाल अतिथि शिक्षक के पदों में सम्बंधित विषय में द्वितीय श्रेणी से स्नातकोत्तर उत्तीर्ण अभ्यर्थी और बीएड योग्यताधारी व्यक्ति आवेदन कर सकता है।

राज्य सरकार द्वारा जिस प्रकार से अचानक अतिथि शिक्षकों की भर्ती शुरू की जा रही है उससे प्रथम दृष्टया तो यही लगता है कि राज्य सरकार को यह स्वयं एहसास हो चुका है की विसंगतियों को दूर किए बिना नियमित शिक्षकों की भर्ती करना आसान नहीं है और इसीलिए शायद सरकार ने एक बार फिर अतिथि शिक्षक का विकल्प ही चुना है क्योंकि यदि सरकार चाहती तो 14 जुलाई को व्याख्याताओं की परीक्षा होने के बाद 1 माह के भीतर रिजल्ट जारी कर नियुक्ति कर सकती है और पूरी प्रक्रिया 15 अगस्त तक समाप्त हो सकती है लेकिन इसके बजाय 30 जुलाई तक अतिथि शिक्षक भर्ती करने को कहा जा रहा है जो केवल एक-दो माह के लिए तो होगा नहीं इसका सीधा सा मतलब है कि कहीं ना कहीं कुछ न कुछ तो पेंच फस रहा है उपरोक्त सभी बातें आने वाले समय में ही स्पष्ट हो पायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here