शिक्षकों पर भरोसा करें ……..यदि आप शिक्षक हैं तो ,आपको इस लेख को जरूर पढ़ना चाहिए

0

आज के इस दौर में आपका सामना ऐसे लोगों से जरूर हुआ होगा ,जो हमेशा ही शिक्षकों कों कोसते नजर आते हैं ,पर क्या आपने कभी सोचा है समाज में कुछ ऐसे लोग भी हैं ,जो आज भी शिक्षकों का लोहा मानते हैं । इस खबर को पढ़कर आपको निश्चित ही खुछ पल के लिए ही सहीं पर शिक्षक होने का गर्व महसूस जरूर कराएगा। यकीन मानों इस महान व्यक्ति को आप धन्यवाद कहे बिना नहीं रह पाओगे ।

दरअसल ABS NEWS टीम को एक ऐसा समाचार मिला है , जो समाज का शिक्षकों के प्रति सोंच बदलने के लिए काफी है। यह लेख 1 जून 2019 को प्रकाशित हुआ है , इस लेख को लिखने वाले शख्स का नाम है कालू राम शर्मा जी ,जो कि एक सामाजिक कार्यकर्त्ता है ।

श्री कालू राम शर्मा ने अपने लेख में लिखा है -समाज में सरकारी स्कूलों के प्रति आस्था में कभी आई है। सरकारी स्कूलों के प्रति अविश्वास की एक बड़ी वजह यह है कि यहां के बारे में गलतफहमी पैदा हो गई कि अच्छे नहीं हैं ,यहां पढ़ाई नहीं होती। इस वजह से अभिभावक बच्चों के लिए फ़ीस की व्यवस्था जुटाने की क्षमता में चाहे सक्षम न हों फिर भी वे निजी स्कूलों में भर्ती करा रहे हैं। उन्हें सरकार का शिक्षा तंत्र यह भरोसा नहीं दिला पा रहा है कि यहां के शिक्षक सीखने सिखाने में दक्ष हैं।

इस लेख में उन्होंने जो बातें लिखी है यदि इसे कोई पढ़ ले तो उसे शिक्षकों के प्रति अपने सोच से घृणा हो जाएगा । उन्होंने लिखा है -देश में लोकसभा का चुनाव सम्पन्न हो चुका है, नई सरकार का गठन हो गया है ,सरकारी तंत्र चुनाव सम्पन्न कराकर अब राहत की सांस ले रहे हैं ,पर क्या आपको पता है इस कार्य में शिक्षकों की भूमिका अहम रही है।बेशक , शिक्षक शिक्षण कार्य के अलावा वे सभी कार्य करते हैं ,जो देश हित में माने जाते हैं। शिक्षक ही शख्सियत है जो हर कार्य में नीव का पत्थर बनता है ,पर सम्मान पाने में एक क्लर्क से भी काफी पीछे है।

इससे पहले भी छत्तीसगढ़ निर्वाचन आयोग ने सर्वे के आधार पर माना है कि शिक्षक कर्तव्य निष्ठा और ईमानदरी से कार्य करते हैं ,जहाँ शिक्षक की ड्यूटी लगी होती है वहाँ गलतियाँ नहीं के बराबर होती है ,परन्तु शिक्षा विभाग को ही अपने कर्मचारियों की काबिलियत पर भरोसा नहीं है शिक्षकों को लेकर शैक्षिक और प्रशासनिक तंत्र का नकारात्मक मान्यताएं शिक्षकों का मनोबल गिराती है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here