‘संविधान दिवस’ मनाने हेतु जारी हुआ निर्देश……सभी सरकारी संस्थाओं में करना होगा ये आयोजन

0

रायपुर 24.नवंबर 2019 । संविधान लोकतंत्रात्मक देशों की आत्मा होती है , जिसके आधार पर उस देश को कार्यपालिका द्वारा सुव्यवस्थित तरिके से विकास के पथ अग्रसर किया जाता है। भारत विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्रात्मक देशों में से एक है। भारत को विश्व में सबसे तेज गति से उभरता हुआ महा शक्ति के रूप में देखा जा रहा है। यह हमारे देश के संविधान का ही देन है।

भारत देश जब आजाद हुआ उसके पश्चात 26 नवंबर 1949 को संविधान को अंगीकृत किया गया था, तब से इस विशाल देश को संविधान के द्वारा ही व्यवस्थित तरिके से विकास के पथ पर निरंतर आगे ले जाया जा रहा है। ऐसे में 26 नवंबर 2019 को भारत सरकार द्वारा ‘संविधान दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है।

छत्तीसगढ़ शासन सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा इस संबंध में 21.11.19 को शासन के समस्त विभाग ,अध्यक्ष,राजस्व मंडल बिलासपुर ,समस्त संभागायुक्त ,समस्त कलेक्टर छत्तीसगढ़ को पत्र जारी कर कहा गया है कि भारत सरकार द्वारा डॉ.बी आर अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के अवसर पर संविधान दिवस मनाने का निर्णय लिया गया है।

डॉ.अम्बेडकर भारतीय संविधान के प्रारूप निर्माण समिति के अध्यक्ष थे। भारतीय संविधान को 26 नवंबर 1949 को अंगीकृत किया गया था। भारत सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार दिनांक 26 नवंबर 2019 को सम्पूर्ण भारत में संविधान दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

समान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि इस अवसर पर प्रदेश के सभी शैक्षणिक संस्थान एवं सरकारी कार्यालयों में भारतीय संविधान के उद्देशिका को पढ़ा जाये इसके अलावा शैक्षणिक संस्थाओं ,महाविद्यालयों ,विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों को संविधान तथा संविधान के मौलिक कर्तव्यों के प्रति जागरूकता के लिए निबंध लेखन ,वाद -विवाद प्रतियोगिता एवं व्याख्यान तथा सेमिनार का आयोजन 26 नवंबर 2019 से 14 अप्रैल 2020 तक की अवधि में किया जाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here