शाला में मोबाइल के उपयोग पर लगा प्रतिबंध……..अब कैसे होगी डिजिटल पढ़ाई……..

0

मुंगेली।  वर्तमान समय में मोबाइल जैसे कई टेक्नोलॉजी है ,जो लोगों के जीवन में ऐसा घर कर गया है कि लोग चाह कर भी इससे दूर नहीं रह सकते। आज से कुछ वर्ष पहले तक किसी -किसी के पास ही मोबाइल देखने को मिलता था ,परन्तु आज थोड़ा भी सक्षम परिवार है तो उस परिवार के हर एक सदस्य के पास मोबाइल होना जरुरी है। माता पिता भी घर में बच्चों को मोबाइल के माध्यम से शिक्षण कार्य कराते  हैं।

यदि वर्तमान शिक्षा प्रणाली की बात करें तो आप पाएंगे कि वर्तमान में अध्ययन -अध्यापन के तरीकों में बदलाव आया है ,खासकर प्राथमिक और उच्च प्राथमिक कक्षाओं में रटने-रटाने के स्थान पर खेल -खेल में और डिजिटल तरिके से अध्ययन-अध्यापन कराया जा रहा है, ऐसे में शाला में मोबाइल का उपयोग जरुरी हो जाता है। शाला में मोबाइल के उपयोग पर जिला शिक्षा अधिकारी के प्रतिबंध के कारण मोबाइल एप्प के माध्यम से होने वाले पढ़ाई पर लगभग पूर्ण रूप से रोक लग गया है।

दरअसल जिला शिक्षा अधिकारी मुंगेली द्वारा दिनांक 22 .08.19 को सर्व प्राचार्य /प्रधान पाठक ,शासकीय प्राथमिक /उच्च प्राथमिक /हाई स्कूल /हायर सेकंडरी को पत्र जारी कर शाला में छात्र -छात्रा के मोबाइल लाने पर पूर्णतः रोक लगाने को कहा गया है ,जो की बहुत ही सराहनीय पहल है।

इस आदेश में शाला समय में शिक्षकों को भी मोबाइल का उपयोग नहीं करने को कहा गया है। जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा उठाया गया यह सराहनीय कदम है ,क्योंकि शाला में मोबाइल के उपयोग से शिक्षण कार्य प्रभावित होता है ,परन्तु इस प्रतिबंध के कारण शासन के मंशानुरूप मोबाइल एप्प के माध्यम से होने वाले अध्ययन -अध्यापन पर रोक लग गया है।

 कुछ शिक्षकों ने बताया कि किसी भी अवधारणा को बच्चे अन्य माध्यमों के अपेक्षा मोबाइल एप्प के माध्यम से जल्दी समझ जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here